Ganga River Flood

Ganga River Flood

Ganga River Flood पहाड़ों और मैदानी इलाकों में लगातार हो रही बारिश के कारण गंगा नदी अब विकराल रूप धारण कर चुकी है. यूपी में अब गंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. इससे तराई और कटरी क्षेत्र में खतरा बढ़ गया है। डरे हुए ग्रामीण खुद को बचाने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं. गंगापार के 100 से ज्यादा गांव बाढ़ के पानी से घिर गए हैं.

बदायू और बरेली को जोड़ने वाले हाईवे पर 4 फीट तक पानी बह रहा है. जरियनपुर-शाहजहांपुर जाने वाले मुख्य मार्ग पर चौराहार गांव के सामने सड़क पर करीब तीन फीट पानी बह रहा है। पीएसी फ्लड कंपनी 12ए बटालियन के 26 जवान और चार मोटरबोट ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में मोर्चा संभाल लिया है।

गंगा और रामगंगा में बाढ़ ने विकराल रूप दिखाना शुरू कर दिया है। 100 से ज्यादा गांव प्रभावित हुए हैं. कई गांवों और सड़कों पर दो से चार फीट तक पानी बह रहा है. लोगों को आवागमन में परेशानी होने लगी है. तहसील प्रशासन ने गांवों में नावें चलवाना शुरू कर दिया है।

गंगा का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर

नरौरा बैराज से लगातार पांचवें दिन चार लाख क्यूसेक से अधिक पानी गंगा में छोड़ा गया है। इससे गंगा का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है. पांचाल घाट पुल पर गेज 137.10 मीटर से ऊपर पहुंच गया है। यहां खतरे का निशान 137.10 मीटर पर है. वहीं रामगंगा नदी का जलस्तर गेज 135.70 मीटर पर पहुंच गया।

शमसाबाद क्षेत्र का छीतर गांव जलमग्न हो गया है। शमसाबाद-जरियनपुर मुख्य मार्ग पर करीब 20 परिवारों ने रास्ते लगा रखे हैं। गांव कमथरी, अचानकपुर, कटरी तौफीक, पैलानी दक्षिणी, गुटेटी दक्षिणी, अजीजाबाद नगरिया, दिलावरगंज पानी से घिरे हुए हैं। कटरी तौफीक और रूपपुर मंगलपुर मार्ग टूटने से यातायात बंद है।

गंगा में बाढ़ के कारण कई गांव जलमग्न हैं. खेतों में खड़ी फसलें डूब गयी हैं. कई घर गंगा में समा गये हैं. शमसाबाद-जरियनपुर मुख्य मार्ग पर एक किलोमीटर की दूरी तक तीन-तीन फीट पानी भरा हुआ है। यह पानी बैलगाड़ी मालिकों के लिए आय का जरिया बन गया। एक बाइक निकालने पर 50 रुपये वसूले जा रहे हैं.

WhatsAppTelegram